स्टीफ़न हॉकिंग ने कहा की ब्रह्मांड में टहल रहे हैं डायनासोर

ऐसे तो कई वैज्ञानिकों ने कहा है की ब्रह्मांड में कहीं न कंही ऐसी जगह है जहां पृथ्वी जैसा कोई ग्रह होगा लेकीन हो सकता है की वहां की भौतिक क्रियाकलाप इस पृथ्वी से भिन्न हो। हमारी पृथ्वी पर लाखों साल पहले डायनासोर निवास किया करते थे ।

लेकीन पृथ्वी के उथल पुथल के कारण उनकी मौत हो गई। लेकीन स्टीफ़न हॉकिंग ने अपने अंतिम शोध में कहा था की ब्रह्मांड में पृथ्वी जैसा ही कोई ग्रह है जिसमें डायनासोर रह रहे हैं। उन्होंने कहा की ऐसे खगोलीय पिंड भी हो सकते हैं जो हमारे ग्रह से बिलकुल अलग हों

जिनके पास तारें, सूर्य या गैलेक्सी न हों लेकिन वहां भी भौतिकी के ठीक ऐसे ही नियम हों जैसे हमारी धरती पर हैं। हार्टल-हॉकिंग की थ्योरी के मुताबिक इनमें से कई ब्रह्मांड बिलकुल हमारे जैसे हो सकते हैं जिनमें धरती जैसे ग्रह होंगे। सिर्फ़ ग्रह ही नहीं हमारे जैसे समाज और लोग भी हो सकते हैं।

कुछ ब्रह्मांड थोड़े अलग हो सकते हैं, जिनमें धरती जैसे ग्रह होंगे और जहां डायनासोर अब भी मौजूद होंगे। जबकि कुछ ब्रह्मांड ऐसे भी होंगे जिनके ग्रह धरती से बिलकुल अलग होंगे, वहां सूर्य या तारे नहीं होंगे लेकिन भैतिकी के नियम हमारे जैसे ही होंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.