नासा ने गहरी खुदाई के लिए मंगल ग्रह पर सुपर रोबोट भेजा

मंगल ग्रह पर आखिरी लैंडिंग के छह साल बाद नासा ने ग्रह के तापमान की अधिक जानकारी के लिए एक रोबोट भूगर्भ विज्ञानी भेज रहा है जो मंगल ग्रह की सतह में अधिक गहराई से खोद कर जाँच करेगा। इस सप्ताहांत को इस रोबोट को लॉन्च के लिए सेट कर दिया गया है। इसकी तकनीक की मदद से वैज्ञानिक अपने कोर के आकार और मेकअप को बेहतर ढंग से समझने के लिए मंगल के घुमावदार घूर्णन को ट्रैक करेंगे।

नासा के जेट प्रोपल्सन प्रयोगशाला के मिशन के मुख्य वैज्ञानिक ब्रूस बनरड ने कहा कि लैंडर के यंत्र वैज्ञानिकों को ग्रह में गहराई से घूरने की अनुमति देंगे। मंगल ग्रह की अंदरूनी जांच करके वैज्ञानिकों को यह समझने में मदद मिलेगी की कैसे लाल ग्रह किसी भी चट्टानी ग्रह के मुकाबले 4.5 अरब साल पहले इसका गठन कैसे हुआ था।

मंगल ग्रह अपने पड़ोसी पृथ्वी से छोटा और भूगर्भीय रूप से कम सक्रिय है। जहां प्लेट टेक्क्टोनिक्स और अन्य प्रक्रियाओं ने हमारे ग्रह के मूल मेकअप को अस्पष्ट कर दिया है। नतीजतन मंगल ग्रह ने शुरुआती विकास के साबुत को बरकरार रखा है। उपग्रहों की एक जोड़ी इनसाइट पर लॉन्च होगी और लिफ्टऑफ के बाद मुक्त हो जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.